divi-header-bg

ठूँठ में बदल गए


कुछ बंद दरवाजे हैं
कुछ रोज़ सुनी जाने वाली आवाज़ें
दीवारें हैं,
और बहुत कुछ है बिखरा हुआ
जिसे रोज़ समेटती हूँ
बस यही तो करती हूँ
अपनी ज़िन्दगियों को “हमारी” बनाने की कोशिश में
जितनी बार मुँह खोलती
बाँहें फैलाती
उतनी बार नासमझ करार दी जाती
उलटबाँसियों से दबा दिया जाता
उछलता कूदता मेरा मन
अनर्थों में जीता हमारा आज
अपने अपने भविष्य की ओर
अकेला ही बढ़ता जा रहा है
मेरे आँसू मेरा दर्द मेरा प्रेम
सिर्फ मेरे बनकर मुझमें ही विलीन होने लगे
जहाँ तक पहुँचकर इनको फलना था
वहाँ पहुँचकर ठूँठ में बदल गए...